Header Ads

प्रेग्नेंसी में मिसकैरिज का कारण बन सकते हैं ये फ्रूट्स, ब्लैकलिस्ट में डाल दें ये 8 फल

प्रेग्नेंसी में हर महिला को यह कहा जाता है कि वह खूब हेल्दी खाना खाए। फ्रूट्स और हरी सब्जियों को खूब खाए, लेकिन याद रखें कि कुछ फ्रूट्स प्रेग्नेंसी में बिलकुल नहीं खाने चाहिए। ये फ्रूट्स हानिकारक केवल प्रेग्नेंसी में हैं। वैसे इन फ्रूट्स में बहुत से पोषक तत्व हैं, लेकिन प्रेग्नेंट लेडी के लिए ये सही नहीं होते हैं। तो चलिए जानें वो फ्रूट्स कौन-कौन से हैं और क्यों इन्हें खाने से गर्भपात का खतरा रहता है।

प्रेग्नेंसी की एक हेल्दी डाइट में बहुत से फ्रूट्स, सब्जियां और अनाज शामिल होने चाहिए। क्योंकि गर्भ में पल रहे शिशु के कारण मां के शरीर में पोषक तत्वों की जरूरत ज्यादा होती है, लेकिन 7 फलों के सेवन से बचने के पीछे कई कारण हैं। कई बार फलों में केमिकल्स का प्रयोग ज्यादा होता है और ये हानिकारक बन जाते हैं। कुछ फल में पाए जाने वाले तत्व गर्भ में पल रहे शिशु के लिए अच्छे नहीं होते, वहीं, कई बार मिट्टी में टोक्सोप्लाज्मा परजीवी नाम बैक्टिरया होते हैं जो जानवरों के मल से फलों तक पहुंच जाते हैं। तो चलिए जानें कि प्रेग्नेंसी में किन फलों से दूर रहने की जरूरत है।

1. अनानास
प्रेग्नेंसी में अनानास से खाने से बचना चाहिए, क्योंकि इसमें ब्रोमेलैन नामक एक एंजाइम होता है, जो गर्भाशय ग्रीवा को नुकसान पहुंचाता है। ये ग्रीवा को नरम बना देता है और गर्भाशय के संकुचन के लिए भी जिम्मेदार होता है। वहीं कई बार ये डिहाइड्रेशन और दस्त का कारण भी बन जाता है।
2. अंगूर
प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में मोशन सिकनेस की समस्या रहती है, ऐसे में साइट्रस फलों को खाने का मन बहुत होता है। लेकिन अंगूर खाने की कभी न सोचें, क्योंकि ये फायदे से ज्यादा नुकसान कर सकता है। अंगूर में बहुत सारे रेस्वेराट्रोल यौगिक होते हैं, जो अंगूर की ऊपर परत पर होते हैं। ये यौगिक जहरीला और विषैला होता है मिसकैरिज का कारण बन सकता है। वहीं, काले अंगूर पचाने में मुश्किल होते हैं।

3. पपीता
कच्चा पपीता मिस्कैरिज का बड़ा कारण होता है। हालांकि, पके पपीते से भी दूर हरने की जरूरत होती है। पपीते के बीज मिसकैरिज की वजह बन सकते हैं। पपीते में लेटेक्स होता है जो गर्भाशय के संकुचन के लिए जिम्मेदार होता है।
4. तरबूज
तरबूज भले ही एक अच्छा और डिहाइड्रेशन में कारगर फल हो लेकिन, प्रेग्नेंसी में खतरनाक होता है। क्योंकि कई बार तरबूज से हानिकारक विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं और ये विषाक्त चीजें गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए जानलेवा हो सकती हैं।

_fruits_to_avoid_in_pregnancy.jpg

5. आडू
प्रेग्नेंसी में आड़ू खाना भी मना होता है क्योंकि इसक तासीर गर्म होती है और ये शरीर में गर्मी पैदा करने लगता है इससे प्रेग्नेंसी में ब्लीडिंग की आशंका बढ़ जाती है। इंटरनल ब्लीडिंग मिसकैरिज को बढ़ा सकता है।
6. लीची
लीची वैसे तो बहुत ही पोषक तत्वों से भरा फल माना गया है लेकिन इसे खाने से कई बार कुछ बीमारियों का खतरा भी रहता है। हालांकि, यह इस पर अभी रिसर्च जारी है कि ये फल क्यों और किसे के लिए हानिकारक होता है। ऐसे में एतिहातन इस फल से भी प्रेग्नेंट लेडी को परहेज करना चाहिए।
7. अमरूद
प्रेग्नेंसी में अमरुद को सिमित मात्रा में खाने की सलाह दी गई है। ज्यादा अमरुद का सेवन शरीर के तापमान को बढ़ा देता है और इससे गर्भस्थ शिशु को नुकासान हो सकता है।
8. प्लम
आलूबुखारा भी लीची की तरह शरीर का तापमान को बढ़ा सकता है, इसलिए प्रेग्नेंसी में इसे खाने से बचना चाहिए।
(डिस्क्लेमर: आर्टिकल में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए दिए गए हैं और इसे आजमाने से पहले किसी पेशेवर चिकित्सक सलाह जरूर लें। । किसी भी तरह का फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने, एक्सरसाइज करने या डाइट में बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।)



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/PCJztxI

No comments

Powered by Blogger.