Header Ads

National Nutrition Week 2021: स्वच्छता पर ध्यान न देने से बच्चों में कुपोषण का खतरा

National Nutrition Week 2021 /strong>: अशुद्ध पानी पीने, खराब जीवन शैली स्वच्छता का पालन करने और अपर्याप्त स्वच्छता सुविधाओं का उपयोग करने से दस्त जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। जो लोग कुपोषित होते हैं वे दस्त के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं और प्रत्येक दस्त कुपोषण को और बिगाड़ सकता है। यह एक दुष्चक्र पैदा करता है। दस्त पांच साल से कम उम्र के बच्चों में कुपोषण का एक प्रमुख कारण है। इसलिए, स्वस्थ और सुपोषित होने के लिए सुरक्षित पेयजल, व्यक्तिगत स्वच्छता और स्वच्छता सुविधाएआवश्यक है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, बेहतर पानी, स्वच्छता और स्वच्छता विश्व स्तर पर हर साल 5 साल से कम उम्र के 297,000 बच्चों की मौत को रोक सकती है।

स्वच्छता सुविधाओं में सुधार के लाभ
दस्त के जोखिम को कम करने के अलावा, स्वच्छता सुविधाओं में सुधार के कई लाभ हैं जैसे:
• आंतों के कीड़े के प्रसार को कम करना
• कुपोषण की गंभीरता और प्रभाव को कम करना
• स्कूल में उपस्थिति को बढ़ावा देना। लड़कियों की स्कूल में उपस्थिति विशेष रूप से अलग सेनेटरी सुविधाओं के प्रावधान से बढ़ी है


एक्सपर्ट
“महाराष्ट्र में नरिशिंग स्कूल्स के स्कूली बच्चों के सर्वेक्षण के आंकड़ों के विश्लेषण में, यह पाया गया कि जो बच्चे खाने से पहले साबुन का उपयोग करते हैं लेकिन शौचालय का उपयोग करने के बाद नहीं, उन्हें खाने से पहले और शौचालय के उपयोग के बाद साबुन का उपयोग करने वाले बच्चों की तुलना में दस्त होने की संभावना 16 गुना अधिक होती है। इस खोज से पता चलता है कि खाने से पहले साबुन के उपयोग को नियंत्रित करने पर, शौचालय का उपयोग करने के बाद साबुन का उपयोग करना बच्चे को दस्त होने की संभावना को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।.”

डॉ. अनंत जानी,

ऑक्सफोर्ड मार्टिन फेलो, यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड; विजिटिंग रिसर्चर, हीडलबर्ग इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल हेल्थ


सवाल जवाब
हमें किस समय बच्चों को साबुन से हाथ धोना सिखाना चाहिए?
हमें बच्चों को निम्नलिखित समय पर साबुन से हाथ धोना सिखाना चाहिए:
• खाद्य पदार्थों को पकाने या संभालने से पहले
• खाने से पहले
• खाने के बाद
• बाहर खेलने के बाद
• शौचालय का उपयोग करने के बाद

हम बच्चों को हाथ धोने के महत्व के बारे में कैसे सिखा सकते हैं?
आप उनके साथ "रोगाणु का खेल" खेल सकते हैं ताकि उन्हें यह समझने में मदद मिल सके कि जब हम अपने हाथों को ठीक से नहीं धोते हैं तो रोगाणु कैसे फैलते हैं। आपको बस कुछ ग्लिटर और कुछ क्रीम या तेल की एक बूंद चाहिए। अपनी हथेलियों पर क्रीम या तेल मलें। अब अपने हाथों पर कुछ ग्लिटर छिड़कें। आप देखेंगे कि कैसे चमक या 'ढोंग करने वाले कीटाणु' आपके हाथों से आपके हाथ के संपर्क में आने वाली किसी भी वस्तु तक जाते हैं। इस तरह रोगाणु चारों ओर फैलते हैं लेकिन आप उन्हें देख नहीं सकते। अब उन्हें अपने हाथ धोने के लिए कहें और उन्हें दिखाएं कि यह कैसे कीटाणुओं से छुटकारा पाने में मदद करता है, इसलिए हम उन्हें फैलाने से बचते हैं।


महत्वपूर्ण निर्देश
आप निम्नलिखित के लिए स्कूल की सुविधाओं की जाँच करके अपने स्कूल/अपने बच्चे के स्कूल को उचित स्वच्छता सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं:
• क्या स्कूल में हाथ धोने की पर्याप्त सुविधा उपलब्ध है?
• क्या इन सुविधाओं का अच्छी तरह से रखरखाव किया जाता है?
• क्या साबुन का उपयोग हाथ धोने के लिए किया जाता है?
• क्या हाथ धोने के क्षेत्र में स्वच्छ हाथ सुखाने की सुविधा प्रदान की जाती है?
• यदि तौलिये का उपयोग किया जाता है, तो क्या उन्हें बार-बार बदला जाता है?
• क्या बच्चे खाना खाने से पहले साबुन से अच्छी तरह हाथ धोते हैं?
• क्या वॉशबेसिन वॉशरूम में और भोजन खाने के क्षेत्र के बाहर उपलब्ध कराए जाते हैं?


इन्हे समझें
1. हाथ धोने के महत्व के बारे में जानने के लिए अपने परिवार के साथ "रोगाणु का खेल" खेलें
2. सुनिश्चित करें कि आप जो पानी पीते हैं उसका उपचार ठीक से किया जाता है जैसे पानी के फिल्टर का उपयोग करनाया पानी उबालना
3. ऊपर दिखाए गए हाथ धोने के चरणों का पालन करें



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3tdDYwS

No comments

Powered by Blogger.