Header Ads

Eyes Care Tips: स्वस्थ आंखों के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

नई दिल्ली। Eyes Care Tips: पिछले कुछ सालों में, विश्व भर में नेत्र स्वास्थ्य का बिगड़ना काफी चिंता का विषय बन गया है। साथ ही वर्तमान में टीवी, मोबाइल और अन्य गैजेट्स के बढ़ते उपयोग के कारण खराब दृष्टि एक आम समस्या के रूप में सामने आई है। इसके अलावा आंखों से संबंधित मोतियाबिंद जैसी अन्य दूसरी समस्याओं में भी वृद्धि देख सकते हैं। इसी वजह से अपने संपूर्ण स्वास्थ्य के साथ हमें अपनी आंखों की देखभाल भी अवश्य करनी चाहिए। आइए जानते हैं वह कौन से उपाय हैं जिनके द्वारा आप दैनिक रूप से आंखों के स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं:

1. विटामिन लेना
हमारे शरीर में आंतरिक रूप से पोषण की पूर्ति के अतिरिक्त कुछ जरूरी विटामिन समग्र आंखों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद करते हैं। विटामिन ए, सी और ई मोतियाबिंद और धब्बेदार अध: पतन सहित कुछ नेत्र रोगों के जोखिम को कम करने में सहायक होते हैं। इसी कारण से विशेषज्ञों द्वारा आंखों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए दैनिक आहार में खट्टे फल, मेवा, बीज, मछली आदि को शामिल करने के की सलाह दी जाती है।

dry_fruits.jpg

2. हाइड्रेटेड रखें:
हमें स्वयं को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी होता है। चिकित्सक कहते हैं कि डिहाइड्रेशन या निर्जलीकरण की समस्या से बचने के लिए रोजाना पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। क्योंकि पानी की कमी हमारी आंखों के स्वास्थ्य को खराब कर सकती है।

water.png

यह भी पढ़ें:

3. हरी सब्जियां खाना:
अक्सर माता-पिता बच्चों को बचपन से ही हरी तथा पत्तेदार सब्जियां खाने की आदत डालने की कोशिश करते हैं। क्योंकि वे जानते हैं कि हरी और असरदार सब्जियां पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं। जिससे हमारी आंखों के साथ पूरे शरीर का स्वास्थ्य बेहतर बनता है। विशेषज्ञों का मानना है कि पत्तेदार साग ल्यूटिन, ज़ेक्सैन्थिन, विटामिन और बीटा-कैरोटीन का एक समृद्ध स्रोत है जो हमारी आंखों को यूवी किरणों और विकिरण से बचाने के लिए सहायक होते हैं।

green_veggie.jpg

4. शारीरिक वजन का प्रबंधन:
एक शोध के अनुसार मोटापा अन्य शारीरिक बीमारियों के साथ आंखों के खराब स्वास्थ्य के लिए भी जिम्मेदार हो सकता है। इसलिए अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अच्छे आहार द्वारा वजन को प्रबंधित रखना चाहिए।

fit.jpg

5. धूम्रपान से बचना:

धूम्रपान करने वाले लोगों में दृष्टि हानि की समस्या हो सकती है। इसके अलावा धूम्रपान न करने वालों की अपेक्षा धूम्रपान करने वालों में मोतियाबिंद जैसी समस्याओं के होने की संभावना दो या तीन गुना अधिक होती है।

stop_smoke.jpg

from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3nHcD5N

No comments

Powered by Blogger.