Header Ads

Stress in children :- बच्चे तनाव के कारण हो जाते हैं भयभीत, इन लक्षणों से करें उनकी पहचान

पढ़ाई और भविष्य को लेकर कई बच्चे प्रेशर के कारण Stress में आ जाते हैं। वर्तमान हालातों में उनकी पढ़ाई भी ठीक से नहीं हो रही है। ऐसे में लगातार प्रेशर से उन्हें तनाव भयभीत कर देता है। और वे अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं। ऐसे में कुछ लक्षण नजर आते हैं। तो आप तुरंत ध्यान देकर उसमें सुधार करें। ताकि बच्चा समय से तनाव से बाहर आ सके।

जब बच्चे तनाव के कारण भयभीत हो जाते हैं। तो उनमें कुछ लक्षण नजर आने लगते हैं। अगर बच्चे में इस प्रकार के लक्षण नजर आए। तो आप तुरंत उन्हें प्यार से समझा कर उन्हें तनाव से दूर कर सकते हैं। इसलिए आपको भी इन लक्षणों की जानकारी होना चाहिए।

यह भी पढ़ें - त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है नींबू के पत्ते, इस तरह करें उपयोग।

बच्चों में आक्रोश -

कई बार अत्यधिक तनाव के कारण बच्चे जब परेशान हो जाते हैं। तो वे आक्रोशित हो जाते हैं। उनमें गुस्सा आने लगता है। अगर आपके बच्चे भी छोटी-छोटी बात पर आक्रोशित हो रहे हैं। उन्हें गुस्सा आ रहा है। तो आप उसे प्यार से समझाएं। उसके गुस्से का कारण समझ कर इसका निदान करें।

यह भी पढ़ें - दांतों में इन कारणों से होता है तेज दर्द, बचने के लिए करें यह उपाय।

बच्चों का मूड बदलना -

कई बार बच्चों का मूड स्विंग्स हो जाता है, यानी कभी तो वह खुश नजर आते हैं और कभी एकदम गुमसुम और उदास हो जाते हैं। जब थोड़ी थोड़ी देर में गुमसुम या उदास नजर आते हैं। तो आप इसका कारण जाने और उसे दूर करने के उपाय करें। उन्हें अच्छा माहौल दें।

यह भी पढ़ें - शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी है विटामिन के।

नाखून चबाना-

कई बार बच्चे तनाव में होने के कारण गुस्से में नाखून चबाते नजर आते हैं। अगर बच्चों में यह लक्षण नजर आए। तो उन्हें तुरंत नाखून चबाने की इस आदत से छुटकारा दिलाना चाहिए।

यह भी पढ़ें - हमेशा सेहतमंद रहने के लिए लाइफस्टाइल में करें यह बदलाव।

नींद नहीं आना-

बच्चों को अगर नींद नहीं आ रही है और वह टेंशन में नजर आता है। तो आप उससे टेंशन का कारण जाने, उसका निदान करें। ताकि उसे भरपूर नींद आए और वह स्वस्थ रह सकें। बच्चा थका थका सा रहता है। उसे अच्छे सपने नहीं आते हैं। तो भी आप उसकी तरफ ध्यान दें और उसे इस टेंशन से मुक्त कराएं।

खाने की आदत में बदलाव -

जब बच्चा अधिक तनावग्रस्त होता है। तो वह खाने पीने में भी चिड़चिड़ा हो जाता है। उसकी खाने पीने की आदत में बदलाव आ जाता है। अगर इस प्रकार के लक्षण नजर आए। तो आप तुरंत ध्यान दें। क्योंकि इससे बच्चे के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है और हो सके तो उसे चिकित्सक को भी दिखाएं।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3yulSs9

No comments

Powered by Blogger.