Header Ads

यह लक्षण नजर आए तो तुरंत कराएं डायबिटीज की जांच....

आंखों की रोशनी कम होना, पैरों में सूजन, खुजली चलना, चेहरे पर निशान, जख्मों का जल्दी नहीं भराना, घाव और छाले होना, पैरों में झुनझुनी आना आदि लक्षण नजर आए तो लापरवाही न करें। तुरंत डायबिटीज की जांच कराएं। क्योंकि यह वह लक्षण है, जो डायबिटीज होने पर नजर आते हैं। अगर शुगर लेवल अधिक कम या ज्यादा है, तो तुरंत चिकित्सक से सलाह लें। ताकि इन समस्याओं से भी छुटकारा मिले।

आपको बता दें कि शुगर के कारण व्यक्ति को कई प्रकार की समस्याएं आने लगती है। शुगर ऐसी दीमक का काम करती है, जो शरीर को खोखला करने लगती है। अगर इसका समय पर इलाज नहीं किया जाए तो यह जानलेवा भी साबित होती है। इसलिए डायबिटीज की समय-समय पर जांच करते रहना चाहिए। शुगर लेवल बराबर नहीं होने पर चिकित्सक को दिखाना चाहिए।

यह है डायबिटीज के प्रमुख लक्षण......

जल्दी नहीं भराते जख्म-

जिस व्यक्ति को डायबिटीज होती है, उसका ब्लड सरकुलेशन भी प्रभावित हो जाता है। इस कारण शरीर में हुए किसी भी प्रकार के घाव जल्दी नहीं भराते हैं। अगर किसी व्यक्ति को छोटी मोटी चोट लगी हो और वह भरने में काफी समय लगता है। तो व्यक्ति को डायबिटीज की जांच कराना चाहिए।

शरीर में घाव और छाले-

व्यक्ति के शरीर में छाले होते हैं और वह समय से ठीक नहीं होते हैं, तो डायबिटीज की जांच कराना चाहिए। डायबिटीज के कारण होने वाले छाले अक्सर उंगलियों, घुटनों और पैरों में होते हैं।

पैरों में झुनझुनी आना-

बॉडी में डायबिटीज लेवल बढ़ने से व्यक्ति का नर्वस सिस्टम खराब हो जाता है। जिससे व्यक्ति के हाथ पैर की तंत्रिकाएं भी खराब होती है। इसे डायबिटिक पेरीफेरल न्यूरोपैथी के नाम से भी जाना जाता है।उंगलियों और टखनों में झुनझुनी होना, डायबिटीज के शुरुआती लक्षण है। अगर आपको डायबिटीज है और आप झुनझुनी के साथ ही सुनपन्न और जलन महसूस करते हैं तो तुरंत टेस्ट करवाएं और चिकित्सक से सलाह लें।

चेहरे पर नजर आएगी यह समस्या-

जिस व्यक्ति को डायबिटीज है, उस व्यक्ति का शरीर संक्रमण से लड़ने में नाकामयाब हो जाता है। इसलिए अगर शरीर के किसी भी हिस्से में लाल निशान, खुजली, सूजन आदि में नजर आएं, तो यह डायबिटीज हो सकती है। इसलिए तुरंत जांच कराएं। चेहरे पर भी इसके निशान नजर आ सकते हैं।

पाचन तंत्र होता गड़बड़-

डायबिटीज के चलते डायरिया, उल्टी, घबराहट आदि समस्या भी होती है। डायबिटीज के कारण डाइजेस्टिव सिस्टम खराब हो जाता है। इसलिए इस प्रकार के लक्षण आए तो ध्यान दें।

पैरों में सूजन, किडनी हो सकती है फेल-

डायबिटीज वाले व्यक्ति के पैरों में सूजन और क्रैम्प होता है। तो यह डायबिटिक न्यूरोपैथी का संकेत देते हैं। क्योंकि किडनी शरीर के अनचाहे पदार्थों को बाहर निकालने का काम करती है। लेकिन अगर लंबे समय तक हाई ब्लड शुगर की शिकायत हो तो इससे किडनी भी खराब हो सकती है। किडनी की काम करने की क्षमता भी प्रभावित होती है और पैरों में सूजन आने लगती है। इससे किडनी भी फेल हो सकती है। इसलिए शुगर की जांच कराएं।

नजरे कमजोर होना-

डायबिटीज के कारण व्यक्ति की नजरें भी धुंधली होने लगती है, जिसे डायबीटिक रेटिनोपैथी कहते हैं। ब्लड सरकुलेशन प्रभावित होने से इस समस्या के कारण डायबिटिक लोगों में कई प्रकार के रोग हो सकते हैं। जैसे आंखों के ब्लड वेसल्स खराब होना, इस प्रकार की समस्या का समय पर इलाज नहीं होने पर मोतियाबिंद, ग्लोकोमा और रोशनी खत्म होने की समस्या आ सकती है। इसलिए किसी भी प्रकार के लक्षण नजर आएं तो पहले अपना शुगर लेवल जांचे और इसी के साथ ही चिकित्सक की सलाह अनुसार उपचार कराएं।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2LsGaza

No comments

Powered by Blogger.