Header Ads

Pregnancy care: गर्भावस्था में दर्द होने पर पेन किलर नहीं, ये करें

प्रेग्नेंसी में सिर, पेट या पैरों में दर्द के लिए दर्द निवारक एक गोली लेने मात्र से गर्भस्थ शिशु को नुकसान हो सकता है। शिशु का डीएनए तक क्षतिग्रस्त हो सकता है। उसमें नपुंसकता भी हो सकती है।
दर्द की गोली से नुकसान
प्रेग्नेंसी में पेन किलर लेने से भू्रण का विकास रूक सकता है। चौथे और छठे महीने में दर्द निवारक गोली लेने से कई गंभीर बीमारियों की आशंका सात गुना तक बढ़ जाती है।
एसिडिटी में दर्द होता है
गर्भावस्था में एसिडिटी से पेट या सिर में दर्द अधिक होता है। सुपाच्य भोजन करें। अगर ज्यादा समस्या हो रही है तो आधा गिलास ठंडा दूध बिना चीनी के पिएं। आराम मिलेगा। ज्यादा मिर्च-मसाले वाली चीजें खाने से बचें। अगर चटपटा खाने का मन करे तो बाजार वाली चीजों को घर में ही तैयार करें। मैदा-बेसन वाले फूड खाने से बचें।
हार्मोनल दवाइयों से भी सिरदर्द
अधिक उम्र में प्रेग्नेंसी होने पर किसी अनहोनी से बचने के लिए डॉक्टर्स हार्मोनल दवाइयां भी देते हैं। कई बार इन दवाइयों से भी एसिडिटी और सिर में दर्द की समस्या हो सकती है। ऐसी दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लें। वहीं वजन बढऩे से पैरों में दर्द होने लगता है। शाम को गुनगुने तेल से पैरों की मालिश करें। मालिश हमेशा नीचे से ऊपर की ओर करें। हल्के गुनगुने पानी में भी पैरों को थोड़ी देर रखने से राहत मिलती है। यूटीआइ की दिक्कत से पेट के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है। डॉक्टर को दिखाएं।
आंखों मेें भी दर्द
हार्मोनल बदलाव से प्रेग्नेंसी में आंखों की परेशानी बढ़ जाती है। ऐसे में सिर दर्द हो सकता है। आंखों की जांच करवाएं। इससे भी आराम मिल सकता है।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2JigHaK

No comments

Powered by Blogger.