Header Ads

व्यक्तित्व ही नहीं, सेहत का हाल भी बताता है चेहरा

चेहरा (Face) केवल व्यक्तित्व (personality) ही नहीं और भी कई बातें बयान कर सकता है। ब्रिटिश स्किन फाउंडेशन के शोधकर्ताओं के अनुसार चेहरे को देखकर आप किसी की लाइफ स्टाइल (Lifestyle), उसका खान-पान, स्मोकिंग और एल्कोहल हैबिट को जान सकते हैं। आइए जानते हैं इन सिगनल्स को देखते हुए कि हमारा चेहरा क्या बयान करता है?

स्किन

गर्दन पर गहरे रिंग्स
जरा आईने (mirror) के सामने जाएं और देखें कहीं आपकी गर्दन पर गहरे रिंग्स तो नहीं बने हुए हैं। अगर हैं तो इसका मतलब है आपको मीठा बहुत पसंद है और आपकी डाइट में शुगर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है। तो जनाब, सावधान क्योंकि गर्दन पर मौजूद इन धुंधले, गहरे भूरे रंग के रिंग्स आपको डायबिटीज (diabetes) की तरफ भी खींच सकते हैं। यह रिंग्स शरीर में मौजूद इंसुलिन (insulin) नामक हार्मोन के सही से काम न करने के कारण बन जाते हैं। इसके बचने का सबसे आसान तरीका अपना वजन कम कीजिए।

त्वचा में पीलापन
अगर आप अपनी त्वचा (skin) में पीलापन महसूस कर रहे हैं तो जल्द से जल्द अपनी डाइट में हरी सब्जियां (green vegetables) और फल शामिल कर लें क्योंकि इससे यह जाहिर होता है कि आप हरी सब्जियां नहीं खाते और ओवर वेट भी हैं। स्टडी में यह बात सामने आई है कि जो लोग हर दिन अपने भोजन का तीन हिस्सा फल और सब्जियों के रूप में लेते हैं, उनकी त्वचा हमेशा दमकती है क्योंकि इनमें मौजूद पिगमेंट्स त्वचा में इकट्ठी होती है और स्किन ग्लो करती है। साथ ही एक्सरसाइज करने वालों के चेहरे पर ब्लड सर्कुलेशन सही होने से हमेशा लालीपन दिखता है।

ज्यादा लालीपन डार्क स्किन
आपकी त्वचा में हद से ज्यादा लालीपन और सूखापन है, तो आप चाय के शौकीन मालूम पड़ते हैं और धूप में ज्यादा रहना भी आपको पसंद नहीं है। इसे ठीक करना चाहते हैं तो एक दिन में तीन कप से ज्यादा चाय या कॉफी लेने पर हर एक्स्ट्रा कप के लिए एक गिलास एक्स्ट्रा पानी पीएं और थोड़ी धूप से भी दोस्ती कर लें।

त्वचा पर धब्बे
त्वचा पर कील मुंहासे का कारण आपकी डाइट में अधिक मात्रा में डेयरी प्रोडक्ट्स (dairy products) भी हो सकता है। दूध (milk) की बनी चीजों में प्रोटीन अधिक और कार्बोहाइड्रेट कम मात्रा में होता है और क्योंकि प्रोटीन अमीनो एसिड का ही बना होता है जो टेस्टोस्टेरॉन नामक हार्मोन के स्त्राव बढ़ा देता है जो मुंहासे पैदा कर सकता है। ऐसे में हरी सब्जियां,फल वाली डाइट ही हमें इनसे मुक्ति दिला सकती है।

फेस शेप

फूला हुआ चेहरा
अगर आपका चेहरा कुछ ज्यादा ही भरा हुआ है तो यह ज्यादा एल्कोहल और कम एक्सरसाइज का नतीजा हो सकता है। कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. प्रैजर का मानना है कि एल्कोहल शरीर में तनाव पैदा करता है, जिसकी वजह से कॉर्टिसोल नामक हार्मोन का स्त्राव ज्यादा होने लगता है। यह हार्मोन चेहरे के चारों ओर फैट इकट्ठा करने और साथ ही गालों के चारों तरफ पानी इकट्ठा करने में उत्तरदायी होता है, जिससे चेहरा फूला हुआ दिखता है। एल्कोहल का कम सेवन और हर दिन थोड़ी एक्सरसाइज भी आपके फेस को एक सुंदर शेप में रखने में मदद करेगा।

कमजोर चेहरा
अगर आपका फेस दुबला पतला है तो हुजूर ये ओवर एक्सरसाइज और डायटिंग की ओर इशारा करता है। विशेषज्ञों के अनुसार एक्सरसाइज शरीर और त्वचा के लिए काफी महत्वपूर्ण है लेकिन हद से ज्यादा एक्सरसाइज शरीर को खोखला और चेहरे की त्वचा को अंदर की तरफ दबा देती है, जिससे चेहरा कमजोर लगता है।

माउथ

मुंह का किनारा फटना
शरीर में विटामिन बी (vitamin b) की कमी के चलते मुंह के किनारे फटने लगते हैं। विटामिन बी में एंटी-इन्फ्लेमेटॉरी तत्व होता है, जिससे इस तरह की समस्या से निपटने में मदद मिलती है। हो सकता है कि आपकी जीभ भी थोड़ी मोटी दिखाई दे। इस बीच विटामिन सी की कमी के चलते फटे होंठ की समस्या भी हो जाती है। फलों और सब्जियों में अक्सर यह विटामिन्स पाए जाते हैं, इसलिए अगर अपनी डाइट में इन्हें शामिल किया जाए, तो इससे निजात मिल सकती है। होलग्रेन फूड और मटर में विटामिन बी काफी ज्यादा मात्रा में पाया जाता है जबकि संतरा और मिर्च में विटामिन सी काफी होता है।

आंखें

पुतलियों के इर्द-गिर्द रिंग
आपको लगता है कि आंख की पुतलियों के बाहरी छोर पर सफेद रंग का एक छल्ला सा बन गया है और पुतली के बीचों बीच पीले रंग का धब्बा सा दिखने लगा है तो ज्यादा कोलेस्ट्रॉल और हाई फैट फूड के चलते आपको यह समस्या हुई है और इसे जैंथिलास्मा कहते हैं। ज्यादा ब्लड सप्लाई के चलते अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल आंखों के इर्द-गिर्द इकठ्ठा होने लगता है। इसे हल्के में न लें, अपने कोलेस्ट्रॉल लेवल की जांच कराएं और उस पर कंट्रोल रखें।

आंख में धब्बा
आंख में सफेद धब्बा, मतलब आप घूमने फिरने के शौकीन हैं लेकिन लापरवाह। धूप में बिना सुरक्षा के ज्यादा समय तक रहने वालों में यह समस्या मिलती है। पिंग्यूएकुला नाम की इस बीमारी में आंख की पुतली और सफेद भाग के बीच छोटा सा सफेद रंग का धब्बा बन जाता है। इससे आंखों की रोशनी भी प्रभावित हो सकती है। इससे बचने के लिए जब भी धूप में बाहर निकलें, तो चश्मा पहनकर ही निकलें।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2IuYA0Q

No comments

Powered by Blogger.