Header Ads

बढ़ती उम्र के कारण होती है आंखों से जुड़ी ये समस्या

कई बार लोगों को बीमारियां किसी खास वजह से न होकर बढ़ती उम्र व अन्य कारणों से भी होती हैं। ऐसी ही एक बीमारी है मोतियाबिंद। जानते हैं इसके बारे में।

क्या है यह समस्या-
आंखों के लैंस की पारदर्शिता उम्र के अनुसार कम होने लगती है जिससे प्रकाश आंखों में जाने से अवरुद्ध हो जाता है और धुंधला दिखाई देने लगता है। शुरुआत में यह धुंधलापन काफी कम होता है लेकिन धीरे-धीरे तकलीफ बढऩे लगती है।

प्रमुख वजह-
आमतौर पर मोतियाबिंद बढ़ती उम्र के कारण होता है लेकिन आंख में चोट, डायबिटीज, लंबे समय तक ली जाने वाली स्टेरॉइड्स या किसी प्रकार की आई सर्जरी से भी इस रोग की शिकायत हो सकती है।

ऑपरेशन कब-
यदि आपको चश्मा लगाने के बाद भी कम दिखाई देने से रोजमर्रा के कामों में दिक्कत हो तो ऑपरेशन करा लेना चाहिए। लंबे समय तक उपचार न हो तो मोतियाबिंद के पककर फूटने की आशंका बढ़ जाती है जिससे कालापानी या अंधेपन की समस्या हो सकती है। मरीज को मोतियाबिंद के अलावा यदि कोई आंख के पर्दे या नस संबंधी अन्य बीमारी हो तो कई मामलों में सफल ऑपरेशन के बाद भी रोशनी पूरी तरह से वापस नहीं आती। कुछ मरीजों को ऑपरेशन के बाद काले मच्छर (फ्लोटर्स) भी दिखाई दे सकते हैं जो समय के साथ धीरे-धीरे कम हो जाते हैं। वहीं कुछ मरीजों में ऑपरेशन के कई सालों बाद लैंस के पीछे की झिल्ली मोटी हो जाती है जिससे हल्का धुंंधलापन आ सकता है। इस झिल्ली को लेजर किरणों से कुछ मिनट की प्रक्रिया द्वारा काटा जा सकता है।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3ixPEnU

No comments

Powered by Blogger.