Header Ads

हेयर फॉल: तनाव से झड़ते हैं बाल, ज्यादा खाएं प्रोटीन वाली चीजें

तनाव का असर बालों पर भी पड़ता है। कोरोनाकाल में स्ट्रेस से हेयर फॉल और डैंड्रफ भी बढ़ा है। लॉकडाउन से पहले स्ट्रेस से 10-15 प्रतिशत मामले हेयर लॉस के थे जो अब 50-60 प्रतिशत तक हो गए हैं। हालांकि महिलाओं में 80-90 फीसदी बाल दोबारा आ जाते हैं। पुरुषों में भी दोबारा ग्रोथ हो जाती है लेकिन मेल पैटर्न बाल्डनेस से झड़े बाल फिर आना मुश्किल होता है। 20 -40 साल वालों में अधिक शिकायत देखने में आई है। इनमें महिलाएं और टीनएजर्स अधिक हैं। यदि 10 मरीज हैं तो इनमें 7 महिलाएं व 3 पुरुष हैं। इनमें 4-5 मरीजों का हेयरफॉल सीधा तनाव से जुड़ा है। शुरू में इसको लाइफस्टाइल, खानपान और कुछ दवाइयों से रोका जाता है। ज्यादा गंभीर समस्या है तो पहले पीआरपी थैरेपी और जरूरत पडऩे पर हेयर ट्रांसप्लांट होता है।
टेंशन से ३ तरह का गंजापन
पहला, टेलोजन एफ्लोव्युअम यानी साइकोल़जिकल या फिजिकल स्ट्रेस। यह कॉमन प्रॉब्लम है। इससे बालों की ग्रोथ पर बुरा असर पड़ता, कम या पतले होने लगते हैं। दूसरा, ट्राइकोटिलोमेनिया जिसमें टीनएजर्स के बाल झड़ते हैं। मरीज स्ट्रेस से खुद के बाल खींचता या नोंचता है। घर का माहौल, पढ़ाई की टेंशन या डर भी वजह है। तीसरा, एलोपीशिया एरिआटा जो ऑटो इम्युन डिसऑर्डर है। बॉडी के इम्यून सेल्स हेयर फॉलिकल्स पर अटैक करने लगते हैं।
इनको ज्यादा मात्रा में लें
पनीर, अंडा, मीट, चिकन, सोयाबिन, दालें, अंकुरित मंूग-चना, मशरूम, पालक, मेथी, बथुआ, सरसों, अनार, गुड़ खजूर, रोस्टेड चना, मखाना, बादाम, अखरोट, बैरीज आदि खाएं।
आयुर्वेदिक लड्डू फायदेमंद
वर्जिन नारियल तेल के 4 बूंदों से रोज हल्का मसाज करें। किशमिश बादाम, नारियल, गुड़ और खजूर के लड्डू रोज खाएं। नमक और नींबू का कम खाएं। सप्ताह में एक बार शिकाई और रीठा के काढ़ा से बाल धोएं। हो सके तो फिल्टर के पानी से बाल धोएं। सप्ताह में एक बार एलोवेरा जेल से मसाज करने से डैंड्रफ नहीं होते हैं। 100 ग्राम करंज तेल में एक ग्राम कर्पूर मिलाकर मसाज करने से भी डैंड्रफ नहीं होगा।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2CknxsJ

No comments

Powered by Blogger.